सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पत्रकारिता शिक्षा का सच

हिंदी दैनिक हिन्दुस्तान में डा. हेमंत जोशी का पत्रकारिता शिक्षा पर एक यथार्थपरक विश्लेषण प्रकाशित हुआ है। इस विश्लेषण में उन्होंने बिल्कुल सही लिखा है कि पत्रकारिता आज पलक झपकते ही लोगों को ख्याति, पैसा और हैसियत बनाने की सबसे उत्तम सीढ़ी बन गई है। डा. जोशी ने पत्रकारिता पेशे में जाने वाले कई युवक-युवतियां का उदाहरण देते हुए लिखते हैं कि वे देश-दुनिया के बारे में जानना तो दूर, सामान्य ज्ञान में भी कमजोर होते हैं। डा. जोशी का कहना है कि पत्रकारिता के पेशे के प्रति युवा पीढ़ी के इस आकर्षण का यह परिणाम हुआ है कि अनेक विश्वविद्यालयों ने आवश्यक सुविधाओं और प्रशिक्षित अध्यापकों के बिना ही पत्रकारिता के पाठ्यक्रम शुरु कर दिए। कई ऐसे लोग, जिनके पास पूँजी थी या जगह थी या मीडिया में थोड़ी-बहुत पहुँच थी, वह भी कमर कस के इस मैदान में आ गए और लोगों से अनाप-शनाप फीस ले कर उन्हें पत्रकार या टीवी एंकर बनाने का प्रलोभन देने लगे।

डा. हेमंत जोशी का पत्रकारिता शिक्षा पर किया गया विश्लेषण बिल्कुल सटीक है। जबलपुर सहित पूरे मध्यप्रदेश में वर्तमान में पत्रकारिता शिक्षा के संस्थान, जिस प्रकार कुकरमुत्ते की तरह फैलना शुरु हुए हैं, वह आश्चर्यजनक है। बिना किसी प्रशिक्षित अध्यापकों के जिस प्रकार पत्रकारिता शिक्षा दी जा रही है, वह इस प्रकार के संस्थानों को मान्यता देने वाले विश्वविद्यालयों की ईमानदारी पर भी प्रश्नचिन्ह लगाती है। पत्रकारिता शिक्षा के संस्थान युवक-युवतियों को राजदीप सरदेसाई, विनोद दुआ, पुण्यप्रसून वाजपेयी, बरखा दत्त से लेकर स्थानीय रोल मॉडलों का उदाहरण देते हुए, उनके समकक्ष या उससे अधिक ऊंचाई तक पहुँचाने का प्रलोभन देते हैं। इस प्रकार के प्रलोभन से गांव के साथ-साथ शहर के स्नातक और पोस्ट ग्रेजुएट विद्यार्थी दिग्भर्मित हो जाते हैं।

मुझे याद है कि एम. काम उत्तीर्ण एक सीधे साधे विद्यार्थी को जबलपुर के एक मीडिया स्कूल के संचालक ने सब्ज-बाग दिखा कर पब्लिक रिलेशन्स के कोर्स में एडमिशन करवा दिया। इसके लिए उस विद्यार्थी ने यहां वहां से जुटा कर बड़ी रकम फीस के रुप में दी। आज लगभग चार वर्ष हो रहे हैं, वह विद्यार्थी आज भी सड़कों पर ही घूम रहा है। इस विद्यार्थी ने जब मीडिया स्कूल में एडमिशन लिया, तब वहां कोई भी पोस्ट ग्रेजुएट स्तर में अध्यापन करने वाला अध्यापक नहीं था और न ही आज है। इस प्रकार के तथाकथित मीडिया स्कूल और संस्थान वर्ष भर विद्यार्थियों से लंबी-चौड़ी रकम ले कर पत्रकारिता शिक्षा के नाम पर बहलाते और फुसलाते रहते हैं। साल भर विद्यार्थी भी इस मुगालते में रहता है कि बस कुछ दिन में ही वह एक बड़ा पत्रकार या टीवी जर्नलिस्ट बनने वाला है। जब हकीकत सामने आती है, तब वह सिर्फ पछताता ही है। बैचलर आफ जर्नलिज्म जैसे कोर्स में अध्यापकों का वेतन देने से बचने के लिए पूरा कोर्स साल भर के स्थान पर दो-तीन महीने में खत्म कर दिया जाता है और शेष समय में संस्थान का संचालक स्वयं ही पत्रकारिता का व्यवहारिक व सैद्घांतिक ज्ञान बांटने लगता है।

जबलपुर में आजकल टीवी के साथ-साथ रेडियो जॉकी के फर्जी कोर्स का धंधा भी पनपना शुरु हो गया है। इन कोर्स के लिए नौजवानों के साथ अधेड़ भी रुचि लेने लगे हैं। एफएम के इस दौर में प्रत्येक व्यक्ति को महसूस होने लगा है कि उसमें शायद एक अच्छे रेडियो जॉकी या एनाउंसर बनने की क्षमता है। लोगों के इसी भ्रम का फायदा उठा कर जबलपुर के मीडिया स्कूल और संस्थान एक-दो महीने के क्रेश कोर्स संचालित कर रहे हैं। इसी प्रकार के एक मीडिया स्कूल में जाने पर मैंने देखा कि वहां अधिकांश संख्या अधेड़ महिलाओं की थी, जो कि रेडियो जॉकी बनने की तमन्ना से क्रेश कोर्स कर रही थीं। उनके अलावा अन्य विद्यार्थी 'स' और 'श' का उच्चारण में फर्क नहीं कर पा रहे थे। मुन्ना भाई में रेडियो जॉकी की भूमिका निभाने वाली विद्या बालन की "गुड मार्निंग मुंबई" की तर्ज पर "गुड मार्निंग जबलपुर" की लाइनों को दोहरा कर सबको इस बात की अनुभूति करवाई जा रही थी कि वे ही जबलपुर की विद्या बालन हैं। सभी विद्यार्थी अपनी टेप की गई आवाज सुन-सुन कर खुश हो रहे थे।

दरअसल मीडिया स्कूल और संस्थानों में इंफ्रास्ट्रक्चर के नाम पर कृछ नहीं रहता है। एक अलमारी में 10-20 किताबें रख कर विद्यार्थियों को इस भ्रम में रखा जाता है कि उन्हें किताबें खरीदने की जरूरत नहीं होगी। परीक्षाओं के समय विद्यार्थियों को जब पुस्तकें नहीं मिलती है, तब उन्हें पत्रकारिता शिक्षा का सच समझ में आता है।

इस संबंध में वर्षों से विश्वविद्यालय में संचालित होने वाले पत्रकारिता विभागों की स्थिति कुछ अच्छी नहीं हैं। यहां अध्यापन करने वाले शिक्षक स्वयं भ्रम के शिकार हैं। उन्हें पत्रकारिता की नई प्रवृत्तियों की जानकारी नहीं है। किताबी ज्ञान तो बांट दिया जाता है, लेकिन व्यवहारिक शिक्षा देने में विश्वविद्यालय के अधिकांश अध्यापक असफल रहते हैं, क्योंकि उनका स्वयं का व्यवहारिक अनुभव शून्य ही रहता है। पत्रकारिता शिक्षा के संबंध में यह बात भी महसूस की गई है कि अध्यापक पत्रकारिता के व्यवहारिक पक्ष को समझा नहीं पाते हैं और वहीं प्रोफेशनल पत्रकार अपने पेशे का ज्ञान तो दे सकते हैं, लेकिन वे क्लास रूम में एक अच्छे शिक्षक की भूमिका नहीं निभा पाते हैं। इस दृष्टि से पत्रकारिता प्रशिक्षण का मानकीकरण होना चाहिए, जिससे पत्रकारिता शिक्षा और प्रशिक्षण का स्तर तो ऊंचा हो और अच्छी-खासी फीस लेने पर भी नियंत्रण लगे।

टिप्पणियाँ

Vikas ने कहा…
सही कहा अपने पत्रकारिता के रसातल मे जाने का मुख्य कारण कुकुरमुत्ते की तरह खुले ये मीडिया कॉलेज ही हैं. जबलपुर मे ही नही, दिल्ली और उत्तर प्रदेश मे भी यही हाल है. पर कुछ कॉलेज ऐसे है जिनका पाठ्यक्रम स्तरीय है. पर दुख की बात ये है की ये सभी कॉलेज अँग्रेज़ी के है.

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

विवेचना रंगमण्डल राष्ट्रीय नाट्य समारोह-2010: उत्कृष्ट रंगकर्म को दर्शकों का समर्थन

जबलपुर की विवेचना रंगमण्डल ने पिछले दिनों सात दिवसीय ‘रंग परसाई-2010 राष्ट्रीय नाट्य समारोह’ का आयोजन जबलपुर के मानस भवन में किया। यह नाट्य समारोह रंगकर्मी संजय खन्ना को समर्पित था। विवेचना की स्थापना वर्ष 1961 में हुई थी और संस्था ने 1975 से नुक्कड़ नाटकों के प्रदर्शन से अपनी रंग यात्रा की शुरूआत की, जो आज तक जारी है। देश में विवेचना रंगमण्डल की पहचान एक सक्रिय सरोकार से जुड़ी हुई रंगकर्म संस्था के रूप में है। विवेचना रंगमण्डल पिछले कुछ वर्षों से नए निर्देशकों की नाट्य प्रस्तुतियों को राष्ट्रीय समारोह में भी मौका दे रही है। इस बार के नाट्य समारोह में भी जबलपुर में आयोजित अंतर महाविद्यालयीन नाट्य प्रतियोगिता की तीन श्रेष्ठ नाट्य प्रस्तुतियों को मौका दिया गया, ताकि दर्शकों को नया रंगकर्म देखने का अवसर मिल सके। इस प्रयास को रंगकर्मियों के साथ-साथ दर्शकों ने भी सराहा। इस बार के नाट्य समारोह की एक खास बात यह भी रही कि दर्शकों को सात दिन में नौ नाटक देखने को मिले। समारोह की शुरूआत और अंत गंभीर और विचारोत्तेजक नाटकों से हुआ एवं अन्य दिन हास्य नाटकों के साथ नौटंकी भी देखने को मिली।
नाट्य समारो…

जबलपुर में कविता पोस्टरों की प्रदर्शनी, काव्य पाठ और कला व्याख्यान पर केन्द्रित दो दिवसीय 'दृश्य और श्रव्य' कार्यक्रम आयोजित

प्रगतिशील लेखक संघ, विवेचना, विवेचना रंगमंडल और सुर-पराग के तत्वावधान में पिछले दिनों (१३-१४ मार्च को) जबलपुर में दो दिवसीय 'दृश्य और श्रव्य' कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में पिछले दो दशक के हिंदी के श्रेष्ठ कवियों राजेश जोशी, वीरेन डंगवाल और राजकुमार केसवानी का काव्य पाठ, कविताओं की पोस्टर कला कृतियों की नुमाइश और विखयात विश्वविखयात चित्रकार एवं कथाकार अशोक भौमिक का व्याख्यान हुआ। दो दिवसीय दृश्य और श्रव्य कार्यक्रम का आयोजन इस मायने में महत्वपूर्ण रहा कि इसमें जबलपुर के साहित्यकारों, लेखकों, चित्रकारों, रंगकर्मियों के साथ आम लोगों खासतौर से महिलाओं की बड़ी संखया में सहभागिता रही। दो दिन तक जबलपुर के साहित्य और कला प्रेमियों ने अपनी शाम स्थानीय रानी दुर्गावती संग्रहालय की कला वीथिका में विचारोत्तेजक कविता पाठ सुनने के साथ कविताओं की पोस्टर कला कृतियां देखने में गुजारी। अशोक भौमिक द्वारा 'समकालीन भारतीय चित्रकला में जनवादी प्रवृत्तियां' विषय पर पावर पाइंट प्रस्तुतिकरण के साथ दिया गया व्याख्यान कला प्रेमियों के साथ-साथ कला से वास्ता न रखने वाले आम लोगों के ल…

प्रतिरोध को थिएटर का माध्यम बनाने वाले रंगकर्मी बादल सरकार

बादल सरकार का नाम देश में नाटक का पर्याय है। कलकत्ता में जन्में बादल सरकार ने कई वर्ष इंजीनियर के रूप में काम किया। विदेश से रंगकर्म का डिप्लोमा लेने के पश्चात् उन्होंने रंग जगत में प्रवेश किया। उनके अभिनव तरीके ने रंगमंच में उनकी अलग पहचान विकसित की और बादल सरकार रंग जगत का एक शीर्ष नाम बन गया। बादल दा ने गत 15 जुलाई को जीवन के 83 वर्ष पूर्ण किए हैं।
बादल सरकार से प्रेरित हो कर देश के सैकड़ों रंगकर्मी सड़कों पर नाटक करने उतरे और प्रतिरोध के लिए थिएटर को माध्यम बनाया। थिएटर आडोटोरियम और उसके तमाम तामझाम को छोड़ कर ‘सुधीन्द्र नाथ सरकार’ ने जब थिएटर को जनता से सीधे संवाद करने का माध्यम बना कर नुक्कड़ नाटक की अपनी शैली विकसित की, तो रंग जगत में एक तूफान सा आ गया। सन् 1970 के आसपास उन्होंने थिएटर आडोटोरियम से नुक्कड़ की यात्रा शुरू की। उस समय बांगला थिएटर जगत में शंभू मित्र, तृप्ति मित्र और उत्पल दत्त के नाम शीर्ष पर थे। बादल सरकार बताते हैं- ‘‘मैंने अपना काम कविताओं से शुरू किया। सन् 1956 में मैंने अपना पहला नाटक साल्यूशन एक्स लिखा। फिर सन् 1956 में बारो पिशीमा आया। अभी हाल ही में उनकी दो पुस्त…