सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पहल पत्रिका में मेगन कछारी की विद्रोही कविताएं


ज्ञानरंजन के संपादन में निकलने वाली 'पहल' ने पहल पत्रिका के रुप में इस बार असमिया कविता के एक महत्वपूर्ण हस्ताक्षर मेगन कछारी की चुनिंदा कविताओं को 'विद्रोह गाथा' के नाम से प्रकाशित किया है। यह असम से प्रतिरोध, जन विद्रोह और जनजीवन की प्रतिनिधि कविताएं कही जा सकती हैं। मेगन कछारी असम के भूमिगत विद्रोही संगठन संयुक्त मुक्ति वाहिनी असम (अल्फा) के प्रचार भी हैं और संगठन में उनका नाम मिथिंगा दैयारी है। नब्बे के दशक में विद्रोहियों का दमन करने के नाम पर वरिष्ठ उल्फा नेताओं के परिवारों को निशाना बनाया गया था, उस दौरान मेगन कछारी के परिवार के तकरीबन सारे सदस्यों को मार डाला गया था। हाल ही में उन हत्याओं की जाँच करने वाले के. एन. सैकिया आयोग ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि तत्कालीन राज्य सरकार और आत्मसमर्पणकारी विद्रोहियों ने गुप्त हत्याएं की थीं। दिसंबर 2003 में भूटान आपरेशन के दौरान उल्फा के जिन पाँच बड़े नेताओं को गिरफ्तार किया गया, उनमें मेगन कछारी भी शामिल थे। मेगन इस समय गुवाहाटी जेल में हैं। डा. इंदिरा गोस्वामी के संपादन में उनकी कविताओं के अंग्रेजी अनुवाद 'गन्स एंड मेलोडीज' शीर्षक से प्रकाशित हुआ है। मेगन कछारी का जन्म 1968 में निचले असम के एक गाँव में हुआ था। वर्ष 1994 में मेमसाहब पृथ्वी और वर्ष 2007 में रूपर नाकफूलि, सोनर खारू उनके कविता संग्रह हैं।
मेगन कछारी की कविताओं का असमिया से हिन्दी में अनुवाद दिनकर कुमार ने किया है। उन्होंने दर्जनों असमिया पुस्तकों का हिन्दी में अनुवाद किया है। वर्ष 1998 में अनुवाद के लिए सोमदत्त सम्मान से सम्मानित दिनकर कुमार गुवाहाटी से प्रकाशित हिन्दी दैनिक सेंटिनल के संपादक हैं।
यहां 'विद्रोह गाथा' में प्रकाशित कुछ कविताएं प्रस्तुत हैं :-


अपने बारे में
अपने बारे में मैं क्या हाल बता सकता हूं किसी को
फिलहाल मेरी सहपाठी, अनिद्रा और मैं
राह देखते हैं खबर की.......
कभी-कभी शिलाखंड डाकिया
दे जाता है मुझे मेरी ही खबर, खबर आती है
इंतजार में थक जाता है कोई प्रशंसक..........
मेरे शरीर में आविष्कृत हुआ है
शीत का अरण्य
और फिर कभी खबर आती है
कहीं लुढ़ककर गिरा हुआ
मेरा मृत्यु संवाद............
अपने बारे में मैं क्या बता सकता हूं किसी को
फिलहाल मेरी सहपाठी अनिद्रा और मैं
राह देखते हैं खबर की.......
प्रतिदिन अनागत प्रश्न और खबर की कीचड़ में
मैं धंसता जाता हूं, आज बहुत दिन हुए
सूर्योदय को देखते हुए.......
क्या गीत सुनाएगा निर्जीव जीवाश्म
श्मशान की निर्जनता को
मैं खेलता रहा हूं कौवे के कोलाहाल में
सिसकती हुई सुबह और
स्वर्ण वृक्ष के सीने से पश्चिम में झुकते हुए
सूरज के साथ.............
मैं जानता हूं आने वाली राह से लौटकर एक दिन
लौटकर नहीं आएगा शिलाखंड डाकिया
नि:सार हो जाएगा एक दिन भूकंप से हिल उठने वाला
प्राचीन ऊबड़-खाबड़ पथ
एक दिन परिचित पर लुढ़क जाएगा मेरा
दुर्गंधमय गला शरीर....
अपने बारे में मैं क्या हाल बता सकता हूं किसी को

ुटबाल
दुख फुटबाल होता तो शायद नहीं होते
इतने सारे गले हुए दर्द, ह्रदय खाली कर
खेलता, दुख का विश्वकप.......
गोलपोस्ट की सीमा पार कर जाता, दुर्निवार
मेरे दोनों पैरों का दुर्धर्ष गोल...
इतना क्या बर्दाश्त किया जा सकता है, जिस यातना के दबाव से
दायाँ-बायाँ, बाएँ-दाएँ में दोनों पैर समाते हुए लगते हैं मुझे
कीचड़मय पृथ्वी के गर्भ में......
दिन और रात, दिन कहते कितने दिन हो गए तुम
आने की बात कहकर भी आए नहीं......
आएंगे-आएंगे कहकर इतने दिन..... इतने दिन हो गए
थक थक कर मायूसी में आँसू से सूखे दो नयन,
बुझ गई हौले हौले स्मृति यादें
दिन और रात-दिन, माह-साल कितने दिन जो हो गए
झुलस-झुलसकर चिताभस्म बना कलेजा मेरा....
दुख फुटबाल होता तो शायद नहीं होते
इतने सारे गले हुए दुख दर्द, ह्रदय खाली कर
खेलता, दुख का विश्वकप.......
गोलपोस्ट की सीमा पार कर जाता, दर्निवार
मेरे दोनों पैरों का दुर्धर्ष गोल.......

टिप्पणियाँ

Udan Tashtari ने कहा…
विद्रोह गाथा से दोनों ही बड़ी उम्दा कवितायें निकाल कर लाये हैं. आनन्द आ गया.

आपको और आपके चिट्ठे को अनेकों शुभकामनायें एवं ब्लॉगजगत में हार्दिक स्वागत.
vijay gaur ने कहा…
पहल -८८ आ गया क्या ? कविता खूब है. कविता पढाने के लिये आभार.
yunus ने कहा…
पंक‍ज भाई क्‍या पहल की वेबसाईट या ब्‍लॉग नहीं बन सकता । पुराने अंक मेरे पास भी हैं । आईये हम सब मिलकर पहल ब्‍लॉग बनाएं । हम हाजि़र हैं
gulush ने कहा…
युनूस भाई पहल की वेबसाइट के लिए हम लोग प्रयासरत हैं और इसके लिए ज्ञानरंजन जी भी इच्छुक हैं। मुझे जानकारी है कि आप भी पहल परिवार के अभिन्न सदस्य हैं, इसलिए आप से सहायता का हक हम सब का बनता है। जब तक पहल वेबसाइट पर नहीं आ जाती, तब तक
उसके नए अंकों की जानकारी मैं जबलपुर चौपाल में देने का प्रयास कर रहा हूं।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

विवेचना रंगमण्डल राष्ट्रीय नाट्य समारोह-2010: उत्कृष्ट रंगकर्म को दर्शकों का समर्थन

जबलपुर की विवेचना रंगमण्डल ने पिछले दिनों सात दिवसीय ‘रंग परसाई-2010 राष्ट्रीय नाट्य समारोह’ का आयोजन जबलपुर के मानस भवन में किया। यह नाट्य समारोह रंगकर्मी संजय खन्ना को समर्पित था। विवेचना की स्थापना वर्ष 1961 में हुई थी और संस्था ने 1975 से नुक्कड़ नाटकों के प्रदर्शन से अपनी रंग यात्रा की शुरूआत की, जो आज तक जारी है। देश में विवेचना रंगमण्डल की पहचान एक सक्रिय सरोकार से जुड़ी हुई रंगकर्म संस्था के रूप में है। विवेचना रंगमण्डल पिछले कुछ वर्षों से नए निर्देशकों की नाट्य प्रस्तुतियों को राष्ट्रीय समारोह में भी मौका दे रही है। इस बार के नाट्य समारोह में भी जबलपुर में आयोजित अंतर महाविद्यालयीन नाट्य प्रतियोगिता की तीन श्रेष्ठ नाट्य प्रस्तुतियों को मौका दिया गया, ताकि दर्शकों को नया रंगकर्म देखने का अवसर मिल सके। इस प्रयास को रंगकर्मियों के साथ-साथ दर्शकों ने भी सराहा। इस बार के नाट्य समारोह की एक खास बात यह भी रही कि दर्शकों को सात दिन में नौ नाटक देखने को मिले। समारोह की शुरूआत और अंत गंभीर और विचारोत्तेजक नाटकों से हुआ एवं अन्य दिन हास्य नाटकों के साथ नौटंकी भी देखने को मिली।
नाट्य समारो…

जबलपुर में कविता पोस्टरों की प्रदर्शनी, काव्य पाठ और कला व्याख्यान पर केन्द्रित दो दिवसीय 'दृश्य और श्रव्य' कार्यक्रम आयोजित

प्रगतिशील लेखक संघ, विवेचना, विवेचना रंगमंडल और सुर-पराग के तत्वावधान में पिछले दिनों (१३-१४ मार्च को) जबलपुर में दो दिवसीय 'दृश्य और श्रव्य' कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में पिछले दो दशक के हिंदी के श्रेष्ठ कवियों राजेश जोशी, वीरेन डंगवाल और राजकुमार केसवानी का काव्य पाठ, कविताओं की पोस्टर कला कृतियों की नुमाइश और विखयात विश्वविखयात चित्रकार एवं कथाकार अशोक भौमिक का व्याख्यान हुआ। दो दिवसीय दृश्य और श्रव्य कार्यक्रम का आयोजन इस मायने में महत्वपूर्ण रहा कि इसमें जबलपुर के साहित्यकारों, लेखकों, चित्रकारों, रंगकर्मियों के साथ आम लोगों खासतौर से महिलाओं की बड़ी संखया में सहभागिता रही। दो दिन तक जबलपुर के साहित्य और कला प्रेमियों ने अपनी शाम स्थानीय रानी दुर्गावती संग्रहालय की कला वीथिका में विचारोत्तेजक कविता पाठ सुनने के साथ कविताओं की पोस्टर कला कृतियां देखने में गुजारी। अशोक भौमिक द्वारा 'समकालीन भारतीय चित्रकला में जनवादी प्रवृत्तियां' विषय पर पावर पाइंट प्रस्तुतिकरण के साथ दिया गया व्याख्यान कला प्रेमियों के साथ-साथ कला से वास्ता न रखने वाले आम लोगों के ल…

प्रतिरोध को थिएटर का माध्यम बनाने वाले रंगकर्मी बादल सरकार

बादल सरकार का नाम देश में नाटक का पर्याय है। कलकत्ता में जन्में बादल सरकार ने कई वर्ष इंजीनियर के रूप में काम किया। विदेश से रंगकर्म का डिप्लोमा लेने के पश्चात् उन्होंने रंग जगत में प्रवेश किया। उनके अभिनव तरीके ने रंगमंच में उनकी अलग पहचान विकसित की और बादल सरकार रंग जगत का एक शीर्ष नाम बन गया। बादल दा ने गत 15 जुलाई को जीवन के 83 वर्ष पूर्ण किए हैं।
बादल सरकार से प्रेरित हो कर देश के सैकड़ों रंगकर्मी सड़कों पर नाटक करने उतरे और प्रतिरोध के लिए थिएटर को माध्यम बनाया। थिएटर आडोटोरियम और उसके तमाम तामझाम को छोड़ कर ‘सुधीन्द्र नाथ सरकार’ ने जब थिएटर को जनता से सीधे संवाद करने का माध्यम बना कर नुक्कड़ नाटक की अपनी शैली विकसित की, तो रंग जगत में एक तूफान सा आ गया। सन् 1970 के आसपास उन्होंने थिएटर आडोटोरियम से नुक्कड़ की यात्रा शुरू की। उस समय बांगला थिएटर जगत में शंभू मित्र, तृप्ति मित्र और उत्पल दत्त के नाम शीर्ष पर थे। बादल सरकार बताते हैं- ‘‘मैंने अपना काम कविताओं से शुरू किया। सन् 1956 में मैंने अपना पहला नाटक साल्यूशन एक्स लिखा। फिर सन् 1956 में बारो पिशीमा आया। अभी हाल ही में उनकी दो पुस्त…