सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

विश्व छायांकन दिवस के अवसर पर विशेष- डा. जे. एस. मूर्ति: पचास वर्षों की सौम्य और शांत छायांकन यात्रा



डा. जे. एस. (जेम्स सुंदर) मूर्ति की पहचान जबलपुर ही बल्कि पूरे देश में फोटो जर्नलिज्म, नेचर और वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफर के रूप में है। उन्होंने फोटो जर्नलिज्म और कलात्मक छायांकन के मध्य अद्भुत संतुलन बना कर काम किया है। यह दोनों बातें किसी एक छायाकार में काफी कम देखने में आती है। उनके द्वारा खींचे गए छायाचित्र द संडे टाइम्स,द इंडियन एक्सप्रेस, सोशल वेल्फेयर, द हिन्दु जैसे प्रतिष्ठित समाचार व पत्रिकाओं में लगातार प्रकाशित होते रहे हैं। उनके कई छायाचित्रों को जर्मनी, कनाडा, नीदरलैंड में आयोजित अंतरराष्ट्रीय छायाचित्र प्रतियोगिताओं में स्वीकृतियां के साथ पुरस्कृत किया गया है। डा. मूर्ति जबलपुर में फोटो आंदोलन को सक्रियता देने में हर समय आगे रहे हैं। छठे दशक में उन्होंने इसके लिए सर्वप्रथम प्रयास किया और नौवे दशक में डा. मूर्ति ने फोटोग्राफिक सोसायटी आफ जबलपुर (पीएसजे) को व्यवस्थित रूप दे कर नए फोटोग्राफर को एक मंच प्रदान किया। पीएसजे की गणना आज देश में सबसे सक्रिय सोसायटी के रूप में होती है। इसके पीछे डा. मूर्ति की मेहनत और समर्पण को कोई नकार नहीं सकता।
डा. मूर्ति को वर्ष 1969 में उस समय छायांकन में सबसे बड़ी सफलता मिली, जब उनकी छाया चित्र प्रविष्टि को फोटोग्राफिक सोसायटी आफ बंगाल (पीएबी) के द्वारा आयोजित ऑल इंडिया फोटोग्राफिक सैलून में स्वीकृत किया गया। सैलून के निर्णायकों को उनका छायाचित्र में विषय और तकनीकी रूप से नई ताजगी देखने को मिली। इसके पश्चात् डा. मूर्ति की छायांकन यात्रा आज तक जारी है। इसके बाद तो डा. मूर्ति के छाया चित्र देश-विदेश में आयोजित असंख्य सैलून में स्वीकृत हो कर पुरस्कृत हुए। इनमें टी. काशीनाथ मेमोरियल अवार्ड लखनऊ, भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के फोटो डिवीजन का अवार्ड, एग्री-हार्टीकल्चरल सोसायटी आफ इंडिया (एएचएसआई) के द्वारा कोलकाता में वर्ष 2011 में आयोजित प्रतियोगिता में सर्वश्रेष्ठ प्रविष्टि का पुरस्कार महत्वपूर्ण है।
ललित कला अकादमी, नई दिल्ली के द्वारा आयोजित प्रथम छाया चित्र प्रतियोगिता के अवसर पर जारी किए गए केटलाग में डा जे. एस. मूर्ति की प्रविष्टि सहित प्रोफाइल के प्रकाशन को अन्य छायाकार एक बड़ी उपलब्धि मानते हैं। इसके अतिरिक्त डा. मूर्ति की उपलब्धियों में फोटोलवर्स आफ इंडिया स्लाइड सर्किट इंदौर, होरीजन इंडिया इंटरनेशनल सर्किट लखनऊ, एसएएम इंटरनेशनल दिल्ली, और नार्थ ईस्टर्न फोटोग्राफिक एसोसिएशन (नेपा) असम द्वारा आयोजित सैलून में प्राप्त स्वीकृतियां भी हैं। उन्हें यूपी बोर्ड आफ बॉयो-डायवरसिटी, लखनऊ द्वारा ‘टाइगर’ प्रविष्टि के लिए प्रथम पुरस्कार प्रदान किया गया।
छायांकन में अनवरत् पचास वर्ष डूब कर काम करने वाले डा. जे. एस. मूर्ति को वर्ष 2005 में फेडरेशन आफ इंडियन फोटोग्राफी (एफएफआईपी) ने फेलोशिप से सम्मानित किया। वर्ष 2008 में उन्हें इंडिया इंटरनेशनल फोटोग्राफिक काउंसिल (आईआईपीसी) दिल्ली द्वारा
प्लेटिनम एक्जीबिटर ग्रेड से सम्मानित किया। डा. मूर्ति ने कई राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय फोटोग्राफी सैलून में निर्णायक की भूमिका भी निभाई है। देश की सबसे पुरानी फोटोग्राफिक सोसायटी आफ इंडिया (पीएसआई) मुंबई द्वारा आयोजित आल इंडिया सैलून आफ फोटोग्राफी में निर्णायक के मनोनयन को वे एक उपलब्धि के रूप में देखते हैं। डा. मूर्ति द्वारा वर्ष 1997 में जबलपुर के भूकंप के समय खींचे गए छाया चित्र न्यूज एजेंसी प्रेस ट्रस्ट आफ इंडिया (पीटीआई) और यूनाइटेड न्यूज आफ इंडिया (यूएनआई) द्वारा देश व विदेश में जारी किए गए, जिन्हें व्यापक रूप से सराहना मिली।
डा. जे. एस. मूर्ति का छायांकन के साथ-साथ पत्रकारिता शिक्षा में भी विशिष्ट स्थान है। उन्हें ‘मॉस कम्युनिकेशन एंड इट्स वेरियस डाइमेंशन’ पाण्डुलिपि पर वर्ष 1989 में प्रधानमंत्री द्वारा भारतेंदु हरिश्चंद्र राष्ट्रीय पत्रकारिता पुरस्कार प्रदान किया गया।
डा. मूर्ति पचास वर्ष के छायांकन जीवन में पंडित जवाहरलाल नेहरू, इंदिरा गांधी और राजीव गांधी के फोटो लेने को अविस्मरणीय अनुभव मानते हैं। पंडित नेहरू के उतारे गए फोटो को वर्ष 1991 में उन्होंने प्रधानमंत्री राजीव गांधी को जबलपुर प्रवास के समय भेंट किया था। उन्होंने इंदिरा गांधी के एक पोट्रेट को भी राजीव गांधी को भेंट किया था। जो बाद में 1 सफदरजंग रोड स्थित इंदिरा गांधी सेक्रेटेरियट मेमोरियल में प्रदर्शित हुआ।
पत्रकारिता एवं संचार प्राध्यापक के रूप में उन्होंने मनीला-फिलीपींस, क्वालालाम्पुर, श्रीलंका सहित देश में कई राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय सेमीनार में भाग ले कर महत्वपूर्ण शोध पत्र प्रस्तुत किए। डा. मूर्ति ने मॉस कम्युनिकेशन विषय पर एक पुस्तक लिखी, जिसकी वर्तमान में भी शिक्षकों सहित विद्यार्थियों में बहुत मांग है। वे इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी (इग्नू) में कम्युनिकेशन विषय के रूप काउंसलर के रूप में कार्य कर चुके हैं। डा. मूर्ति जबलपुर, चित्रकूट और बीएचयू-बनारस विश्वविद्यालय में अतिथि शिक्षक के रूप में सेवाएं देते रहे हैं। डा. मूर्ति ने लगभग 10 वर्षों तक न्यूयार्क (अमेरिका) से प्रकाशित न्यू वर्ल्ड आउटलुक आर्डर के लिए कई कवर स्टोरी सहित महत्वपूर्ण रिपोर्टिंग की है।
अभी हाल ही में एकेडमी आफ फाइन आटर्स (सेंट्रल गेलरी) कोलकाता में उनकी एकल छायाचित्र प्रदर्शनी ‘एनकेचिंग कोलकाता’ आयोजित की गई, जिसे दर्शकों के साथ क्रिटिक की प्रशंसा भी मिली।
डा. जे. एस. मूर्ति अब अपने कर्मक्षेत्र जबलपुर में नहीं रहते, जिसका उन्हें दुख है, लेकिन पारिवारिक परिस्थितियों ने उन्हें कोलकाता में रहने को मजबूर कर दिया है। कर्मक्षेत्र बदलने और आयु के 70 वें वर्ष में पहुंचने के बावजूद वे निरंतर सक्रिय हैं। उन्होंने फोटोग्राफी सदैव ‘शांति व एकता’ के एक सूत्र को ध्यान में रख कर की और इसमें वे सफल भी हुए।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

विवेचना रंगमण्डल राष्ट्रीय नाट्य समारोह-2010: उत्कृष्ट रंगकर्म को दर्शकों का समर्थन

जबलपुर की विवेचना रंगमण्डल ने पिछले दिनों सात दिवसीय ‘रंग परसाई-2010 राष्ट्रीय नाट्य समारोह’ का आयोजन जबलपुर के मानस भवन में किया। यह नाट्य समारोह रंगकर्मी संजय खन्ना को समर्पित था। विवेचना की स्थापना वर्ष 1961 में हुई थी और संस्था ने 1975 से नुक्कड़ नाटकों के प्रदर्शन से अपनी रंग यात्रा की शुरूआत की, जो आज तक जारी है। देश में विवेचना रंगमण्डल की पहचान एक सक्रिय सरोकार से जुड़ी हुई रंगकर्म संस्था के रूप में है। विवेचना रंगमण्डल पिछले कुछ वर्षों से नए निर्देशकों की नाट्य प्रस्तुतियों को राष्ट्रीय समारोह में भी मौका दे रही है। इस बार के नाट्य समारोह में भी जबलपुर में आयोजित अंतर महाविद्यालयीन नाट्य प्रतियोगिता की तीन श्रेष्ठ नाट्य प्रस्तुतियों को मौका दिया गया, ताकि दर्शकों को नया रंगकर्म देखने का अवसर मिल सके। इस प्रयास को रंगकर्मियों के साथ-साथ दर्शकों ने भी सराहा। इस बार के नाट्य समारोह की एक खास बात यह भी रही कि दर्शकों को सात दिन में नौ नाटक देखने को मिले। समारोह की शुरूआत और अंत गंभीर और विचारोत्तेजक नाटकों से हुआ एवं अन्य दिन हास्य नाटकों के साथ नौटंकी भी देखने को मिली।
नाट्य समारो…

जबलपुर में कविता पोस्टरों की प्रदर्शनी, काव्य पाठ और कला व्याख्यान पर केन्द्रित दो दिवसीय 'दृश्य और श्रव्य' कार्यक्रम आयोजित

प्रगतिशील लेखक संघ, विवेचना, विवेचना रंगमंडल और सुर-पराग के तत्वावधान में पिछले दिनों (१३-१४ मार्च को) जबलपुर में दो दिवसीय 'दृश्य और श्रव्य' कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में पिछले दो दशक के हिंदी के श्रेष्ठ कवियों राजेश जोशी, वीरेन डंगवाल और राजकुमार केसवानी का काव्य पाठ, कविताओं की पोस्टर कला कृतियों की नुमाइश और विखयात विश्वविखयात चित्रकार एवं कथाकार अशोक भौमिक का व्याख्यान हुआ। दो दिवसीय दृश्य और श्रव्य कार्यक्रम का आयोजन इस मायने में महत्वपूर्ण रहा कि इसमें जबलपुर के साहित्यकारों, लेखकों, चित्रकारों, रंगकर्मियों के साथ आम लोगों खासतौर से महिलाओं की बड़ी संखया में सहभागिता रही। दो दिन तक जबलपुर के साहित्य और कला प्रेमियों ने अपनी शाम स्थानीय रानी दुर्गावती संग्रहालय की कला वीथिका में विचारोत्तेजक कविता पाठ सुनने के साथ कविताओं की पोस्टर कला कृतियां देखने में गुजारी। अशोक भौमिक द्वारा 'समकालीन भारतीय चित्रकला में जनवादी प्रवृत्तियां' विषय पर पावर पाइंट प्रस्तुतिकरण के साथ दिया गया व्याख्यान कला प्रेमियों के साथ-साथ कला से वास्ता न रखने वाले आम लोगों के ल…

प्रतिरोध को थिएटर का माध्यम बनाने वाले रंगकर्मी बादल सरकार

बादल सरकार का नाम देश में नाटक का पर्याय है। कलकत्ता में जन्में बादल सरकार ने कई वर्ष इंजीनियर के रूप में काम किया। विदेश से रंगकर्म का डिप्लोमा लेने के पश्चात् उन्होंने रंग जगत में प्रवेश किया। उनके अभिनव तरीके ने रंगमंच में उनकी अलग पहचान विकसित की और बादल सरकार रंग जगत का एक शीर्ष नाम बन गया। बादल दा ने गत 15 जुलाई को जीवन के 83 वर्ष पूर्ण किए हैं।
बादल सरकार से प्रेरित हो कर देश के सैकड़ों रंगकर्मी सड़कों पर नाटक करने उतरे और प्रतिरोध के लिए थिएटर को माध्यम बनाया। थिएटर आडोटोरियम और उसके तमाम तामझाम को छोड़ कर ‘सुधीन्द्र नाथ सरकार’ ने जब थिएटर को जनता से सीधे संवाद करने का माध्यम बना कर नुक्कड़ नाटक की अपनी शैली विकसित की, तो रंग जगत में एक तूफान सा आ गया। सन् 1970 के आसपास उन्होंने थिएटर आडोटोरियम से नुक्कड़ की यात्रा शुरू की। उस समय बांगला थिएटर जगत में शंभू मित्र, तृप्ति मित्र और उत्पल दत्त के नाम शीर्ष पर थे। बादल सरकार बताते हैं- ‘‘मैंने अपना काम कविताओं से शुरू किया। सन् 1956 में मैंने अपना पहला नाटक साल्यूशन एक्स लिखा। फिर सन् 1956 में बारो पिशीमा आया। अभी हाल ही में उनकी दो पुस्त…