सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

August, 2012 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

जे. सी. जोशी पंचम शब्द साधक साहित्य सम्मान एवं पाखी महोत्सव-2012: ज्ञानरंजन ने कहा- यह पुरस्कार राजपथ से जनपथ की तरफ जाने जैसा है

(प्रसिद्ध कहानीकार और पहल के संपादक ज्ञानरंजन को 25 अगस्त को जबलपुर में जे. सी. जोशी पंचम शब्द साधक साहित्य सम्मान एवं पाखी महोत्सव-2012 में शब्द साधक शिखर सम्मान से सम्मानित किया। समारोह में मुख्य अतिथि प्रसिद्ध कथाकार शेखर जोशी ने ज्ञानरंजन को 51 हजार रूपए की सम्मान राशि भेंट की। समारोह की अध्यक्षता नर्मदा यायावर, लेखक व कलाकार अमृतलाल बेगड़ ने की। इस अवसर पर ज्ञानरंजन ने अपने चिरपरिचित अंदाज में वक्तव्य दिया। उनका वक्तव्य यहां ज्यों का त्यों प्रस्तुत है) :-

माननीय अध्यक्ष नर्मदा के अविराम यात्री-सर्जक श्री बेगड़ जी, शेखर भाई, अपूर्व जोशी और मंचासीन आयोजक रचनाकार साथियों

    सभागार में बाहर से आए मेरे अनेक मित्र, कथाकार, कवि, कार्यकर्त्ता और स्थानीय नागरिक जीवन के नए-पुराने साथी बैठे हैं। प्यार करने वाले लोग हैं, तरह-तरह के जीवन साथी हैं, कुछ पुराने विद्यार्थी भी हैं। समझिए कि एक छोटा सा तारामंडल ही है। यह पहला सम्मान अथवा पुरस्कार है, जो मेरे गृह नगर में दिया गया, अन्यथा बाकी सभी दूर जगहों में ही दिए गए। इसी शहर में 50 वर्ष का मेरा जीवन बिखर गया है, जिसमें शानदार लोग रहते आए थे। इसलिए …