सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पीवी राजगोपाल को अन्ना हजारे से अलग, स्वयं का अस्तित्व बनाए रखने की सलाह


केरल में जन्मे गांधीवादी कार्यकर्ता पीवी राजगोपाल गांधी शांति प्रतिष्ठान के उपाध्यक्ष और एकता परिषद के प्रमुख हैं . एकता परिषद की स्थापना वर्ष १९९१ में की गई थी . राजगोपाल ने वर्धा स्थित सेवाग्राम से कृषि का अध्ययन करने के बाद ७० के दशक में चंबल के डाकुओं के समर्पण और पुनर्वास में सक्रिय भूमिका निभाई . कथकली का नृत्य का प्रशिक्षण ले चुके राजगोपाल की पत्नी कनाडा मूल की जिल कार हैरिस हैं. जिल कार हेरिस भारत भ्रमण के साथ साथ सहकारिता , आदिवासी उत्पीडन और जल -जंगल - ज़मीन से जुड़े मामलों के अध्यन के लिए आईं थी . पी वी राजगोपाल के साथ इन क्षेत्रों में काम करते उन्हें लगा कि राजगोपाल अपने आंदोलन के प्रति तन मन से ईमानदार हैं , तभी उन्होंने राजगोपाल की जीवन संगिनी बनने का फैसला किया और तभी से वे उतनी ही ईमानदारी से राजगोपाल के हर कदम पर उनके साथ रहती हैं. 
राजगोपाल के मुताबिक एकता परिषद एक अहिंसक सामाजिक आंदोलन है, जो राष्ट्रीय स्तर पर गरीब और भूमिहीन लोगों के लिए भूमि अधिकारों की मांग कर रहा है। भूमि सुधार वन अधिकारों की मांग को ले कर राजगोपाल ने २००७ में भी ग्वालियर से दिल्ली तक २५ हजार लोगों के साथ यात्रा की थी . तब केंद्र सरकार ने राष्ट्रीय भूमि आयोग का गठन किया . इसके प्रमुख खुद प्रधानमंत्री थे, लेकिन सरकार निष्क्रिय ही बनी रही। इसी निष्क्रियता और दुराग्रह के खिलाफ राजगोपाल के साथ हजारों भूमिहीन फिर से जनसत्याग्रह पर ३ अक्टूबर २०१२ को ग्वालियर से निकले . यह मार्च जब आगरा पह्नुचने को था तभी केन्द्रीय मंत्री जयराम रमेश आगरा पहुंच गए और पीवी राजगोपाल से पैदल मार्च को समाप्त करने का आग्रह किया. श्री रमेश ने हजारों आदिवासी पदयात्रियों को भरोसा दिलाया कि यदि वर्तमान मंत्रालय में मैं ६ माह रह पाया तो उनकी सभी मांगों का न्याय संगत निराकरण कर दूंगा. उनके इस वायदे का अभी तक कोई परिणाम सामने नहीं आया है. आदिवासी अपने को एक बार फिर ठगा सा महसूस कर रहे हैं लेकिन श्री राजगोपाल के रहते उनका यह जनसत्याग्रह अनुशासन और संयम का पर्याय बन गया। इस अनुशासन और संयम के पीछे राजगोपाल का ऐसे ही मार्च निकालने का लंबा अनुभव है। वे वर्ष २००७ के पहले करीब दस राज्य स्तरीय पदयात्राएं निकाल चुके हैं. श्री राजगोपाल पिछले दिनों जबलपुर आये. उन्होंने अपने आंदोलन के बारे में श्रोताओं से विस्तार से चर्चा की और अपनी चिंता से अवगत कराया.

प्राकृतिक संसाधनों का स्थानांतरण जल, जंगल और जमीन का स्थानांतरण हो रहा है . गांव से शहर की ओर पलायन, इससे शहर में भी स्थिति नारकीय हो गई. आम आदमी के लिए कोई सुविधा नहीं है. गांव से पलायन के कारण किसान आत्महत्या करने लगे हैं और इसकी संख्या निरंतर बढ़ रही है . इससे हिंसा भी बढ़ी और नक्सलवाद का फैलाव हुआ. विकास पर पुनर्विचार होना चाहिए. ग्रामीण भारत में अपराधीकरण का फैलाव हुआ . आदिवासियों और जमीन देने वालों को प्रताड़ित किया जा रहा है। खनन करने वाले जमीन हथिया कर लाभ कमा रहे हैं। हिंसा को बढ़ाने वाले विकास पर चिंतन करने की जरूरत है। सरकारी कर्मियों में संवेदनहीनता आम बात हो गई है . पहले ऐसी प्रवृत्ति छोटे कर्मियों या तहसीलदार तक थी, अब कलेक्टर या आईएएस में यह बात देखने को मिल रही है.

आईएएस जनसुनवाई का नाटक कर रहे हैं और नियंत्रण भी कर रहे हैं। इन लोगों का मुख्य उद्देश्य बड़ी व मल्टीनेशनल कंपियों को जमीन दिलवाना भर रह गया है। गांधी जी के स्वावलंबन की अवधारणा के स्थान पर परावलंबन की भावना विकसित हो रही है. सरकार की योजनाओं जैसे वृद्धावस्था पेंशन, नरेगा, विकलांग पेंशन जैसी योजना से आम आदमी कामचोर होता जा रहा है.

पीवी राजगोपाल ने इन विसंगतियों या प्रक्रिया से लड़ने के लिए अहिंसात्मक तरीके से जूझने की बात की. उन्होंने कहा कि गरीबों की ताकत, नव जवानों की ताकत, अहिंसक ताकत, सहभागिता की ताकत को इस्तेमाल करने की सलाह दी. पीवी राजगोपाल ने महत्वपूर्ण बात यह कही कि " चुप्पी और हिंसा के बीच खड़े हो कर अहिंसक विरोध करें."

पीवी राजगोपाल ने संबोधन के पश्चात प्रश्नोत्तर कार्यक्रम में स्पष्ट किया कि वे अन्ना हजारे के आंदोलन में किसी मतभेद के कारण नहीं, बल्कि पदयात्रा में व्यस्त होने के शामिल नहीं हुए. उन्होंने यह अवश्य कहा कि अन्ना और अरविंद केजरीवाल का आंदोलन की असफलता का मुख्य कारण उसमें शामिल मध्यम वर्ग का टिकाऊपन न होना था. पीवी राजगोपाल ने कहा कि मध्यम वर्ग की आंधी जरूरी और आवश्यक है, लेकिन उसका टिकाऊपन भी जरूरी है. आंदोलन में आदिवासियों, शोषित, महिलाओं को शामिल किया जाएगा, जो आंदोलन को टिकाऊ बनाएंगे.

कार्यक्रम में आमतौर पर पीवी राजगोपाल को यह सलाह दी गई कि वे अन्ना और केजरीवाल के आंदोलन से अपने को अलग रखें एवं स्वयं और संस्था का अस्तित्व बना कर आगे का रास्ता तय करें. पीवी राजगोपाल के लंबे समय से सहयोगी संतोष भारती ने भी उन्हें स्वयं का अस्तित्व अलग रख कर चलने की सलाह दी और अन्ना के साथ किसी भी प्रकार का गठजोड़ न करने की अपील की.

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

विवेचना रंगमण्डल राष्ट्रीय नाट्य समारोह-2010: उत्कृष्ट रंगकर्म को दर्शकों का समर्थन

जबलपुर की विवेचना रंगमण्डल ने पिछले दिनों सात दिवसीय ‘रंग परसाई-2010 राष्ट्रीय नाट्य समारोह’ का आयोजन जबलपुर के मानस भवन में किया। यह नाट्य समारोह रंगकर्मी संजय खन्ना को समर्पित था। विवेचना की स्थापना वर्ष 1961 में हुई थी और संस्था ने 1975 से नुक्कड़ नाटकों के प्रदर्शन से अपनी रंग यात्रा की शुरूआत की, जो आज तक जारी है। देश में विवेचना रंगमण्डल की पहचान एक सक्रिय सरोकार से जुड़ी हुई रंगकर्म संस्था के रूप में है। विवेचना रंगमण्डल पिछले कुछ वर्षों से नए निर्देशकों की नाट्य प्रस्तुतियों को राष्ट्रीय समारोह में भी मौका दे रही है। इस बार के नाट्य समारोह में भी जबलपुर में आयोजित अंतर महाविद्यालयीन नाट्य प्रतियोगिता की तीन श्रेष्ठ नाट्य प्रस्तुतियों को मौका दिया गया, ताकि दर्शकों को नया रंगकर्म देखने का अवसर मिल सके। इस प्रयास को रंगकर्मियों के साथ-साथ दर्शकों ने भी सराहा। इस बार के नाट्य समारोह की एक खास बात यह भी रही कि दर्शकों को सात दिन में नौ नाटक देखने को मिले। समारोह की शुरूआत और अंत गंभीर और विचारोत्तेजक नाटकों से हुआ एवं अन्य दिन हास्य नाटकों के साथ नौटंकी भी देखने को मिली।
नाट्य समारो…

जबलपुर में कविता पोस्टरों की प्रदर्शनी, काव्य पाठ और कला व्याख्यान पर केन्द्रित दो दिवसीय 'दृश्य और श्रव्य' कार्यक्रम आयोजित

प्रगतिशील लेखक संघ, विवेचना, विवेचना रंगमंडल और सुर-पराग के तत्वावधान में पिछले दिनों (१३-१४ मार्च को) जबलपुर में दो दिवसीय 'दृश्य और श्रव्य' कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में पिछले दो दशक के हिंदी के श्रेष्ठ कवियों राजेश जोशी, वीरेन डंगवाल और राजकुमार केसवानी का काव्य पाठ, कविताओं की पोस्टर कला कृतियों की नुमाइश और विखयात विश्वविखयात चित्रकार एवं कथाकार अशोक भौमिक का व्याख्यान हुआ। दो दिवसीय दृश्य और श्रव्य कार्यक्रम का आयोजन इस मायने में महत्वपूर्ण रहा कि इसमें जबलपुर के साहित्यकारों, लेखकों, चित्रकारों, रंगकर्मियों के साथ आम लोगों खासतौर से महिलाओं की बड़ी संखया में सहभागिता रही। दो दिन तक जबलपुर के साहित्य और कला प्रेमियों ने अपनी शाम स्थानीय रानी दुर्गावती संग्रहालय की कला वीथिका में विचारोत्तेजक कविता पाठ सुनने के साथ कविताओं की पोस्टर कला कृतियां देखने में गुजारी। अशोक भौमिक द्वारा 'समकालीन भारतीय चित्रकला में जनवादी प्रवृत्तियां' विषय पर पावर पाइंट प्रस्तुतिकरण के साथ दिया गया व्याख्यान कला प्रेमियों के साथ-साथ कला से वास्ता न रखने वाले आम लोगों के ल…

प्रतिरोध को थिएटर का माध्यम बनाने वाले रंगकर्मी बादल सरकार

बादल सरकार का नाम देश में नाटक का पर्याय है। कलकत्ता में जन्में बादल सरकार ने कई वर्ष इंजीनियर के रूप में काम किया। विदेश से रंगकर्म का डिप्लोमा लेने के पश्चात् उन्होंने रंग जगत में प्रवेश किया। उनके अभिनव तरीके ने रंगमंच में उनकी अलग पहचान विकसित की और बादल सरकार रंग जगत का एक शीर्ष नाम बन गया। बादल दा ने गत 15 जुलाई को जीवन के 83 वर्ष पूर्ण किए हैं।
बादल सरकार से प्रेरित हो कर देश के सैकड़ों रंगकर्मी सड़कों पर नाटक करने उतरे और प्रतिरोध के लिए थिएटर को माध्यम बनाया। थिएटर आडोटोरियम और उसके तमाम तामझाम को छोड़ कर ‘सुधीन्द्र नाथ सरकार’ ने जब थिएटर को जनता से सीधे संवाद करने का माध्यम बना कर नुक्कड़ नाटक की अपनी शैली विकसित की, तो रंग जगत में एक तूफान सा आ गया। सन् 1970 के आसपास उन्होंने थिएटर आडोटोरियम से नुक्कड़ की यात्रा शुरू की। उस समय बांगला थिएटर जगत में शंभू मित्र, तृप्ति मित्र और उत्पल दत्त के नाम शीर्ष पर थे। बादल सरकार बताते हैं- ‘‘मैंने अपना काम कविताओं से शुरू किया। सन् 1956 में मैंने अपना पहला नाटक साल्यूशन एक्स लिखा। फिर सन् 1956 में बारो पिशीमा आया। अभी हाल ही में उनकी दो पुस्त…